युवक ने गंगा में कूदकर दी जान, परिजनों ने पुलिस पर लगाया सरेराह पिटाई का आरोप, थानेदार और सिपाही पर कार्रवाई की मांग 

लंका थाना अंतर्गत नगवा क्षेत्र में बुधवार को सरेराह पुलिस की पिटाई से क्षुब्ध युवक ने गंगा में कूदकर आत्महत्या कर ली.

युवक ने गंगा में कूदकर दी जान, परिजनों ने पुलिस पर लगाया सरेराह पिटाई का आरोप, थानेदार और सिपाही पर कार्रवाई की मांग 

वाराणसी, भदैनी मिरर। लंका थाना अंतर्गत नगवा क्षेत्र में बुधवार को सरेराह पुलिस की पिटाई से क्षुब्ध युवक ने गंगा में कूदकर आत्महत्या कर ली. आसपास के गोताखोरों ने आनन फानन में कूदकर युवक को बाहर निकाला, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी. सूचना पर पहुंचे परिजन भी शव लेकर गंगोत्री विहार कालोनी पहुंचे और सड़क पर शव रखकर हंगामा किया. परिजनों ने पुलिस पर पिटाई का आरोप लगाया है, साथ ही थानेदार और सिपाही पर कार्रवाई की मांग की है.

मृत युवक का पिता शारदा प्रसाद वाराणसी के लंका थाना में होमगार्ड है, उन्होंने बताया कि उनका बेटा विशाल सोनकर (22) फल-सब्जी की ठेला लगाता है. बुधवार की सुबह विशाल ठेला के पास था, तभी नगवां क्षेत्र से एक छात्रा ठेले पर आम लेने के लिए आई, लेकिन आम के दाम को लेकर दोनों में थोड़ी कहासुनी हुई. इसी दौरान मार्निंग वॉक पर निकले लंका इंस्पेक्टर शिवाकांत मिश्रा अपने साथी दरोगा लक्ष्मीकांत और हेड कांस्टेबल रंगपाल के साथ सादे वर्दी में थे और कहासुनी होता देख मौके पर रुक गए. उसके बाद मेरे लड़के को डांटा और मारा और बाद में लड़के को उस लड़की से भी थप्पड़ मरवाया.