एनोरेक्टल बीमारियों की लेजर विधि से हुई सर्जरी, लाईव वर्कशॉप में शामिल रहे हजारों चिकित्सक

वाराणसी, भदैनी मिरर। पहली बार लेजर (Laser) विधि द्वारा एनोरेक्टल बीमारियों (Anorectal Disease)  गुदा और मलाशय की बीमारियों को लेकर ऑपरेशन की शुरुआत वाराणसी के ककरमत्ता डीएलडब्ल्यू स्थित पॉपुलर हॉस्पिटल में हुई। इस अत्याधुनिक इलाज को लेकर वर्कशॉप का आयोजन किया गया।  इसकी जानकारी अस्पताल के निदेशक डॉ. ए. के. कौशिक ने दी। इस लाइव वर्कशॉप का प्रसारण भारत सहित दक्षिण पूर्व एशिया के सभी देशों में किया गया, करीब तीन हजार चिकित्सकों ने इस लाइव सर्जरी को को देखा। सर्जरी कार्यशाला में 15 मरीजों की गुदा एवं मलद्वार से संबंधित जटिल रोगों की सर्जरी की गई।

डॉ. ए. के. कौशिक ने बताया कि इस वर्कशॉप में एसोसिएशन ऑफ कोलोरेक्टल सर्जन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. निरजन अग्रवाल, सचिव डॉ कुशल मित्तल, प्रो. अरशद अहमद एवं डॉ. कमल गुप्ता ने लेजर विधि से हुए ऑपरेशन की विधिवत जानकारी दी। बताया कि अब पॉपुलर हॉस्पिटल में लेजर विधि से गुदा और मल द्वार सबंधित रोगों का संपूर्ण इलाज होगा जिसमें प्रमुख बीमारियां बवासीर, भगंदर, एनल फिस्टुला, एनल फिशर, रेक्टल प्रोलैप्स और पिलोमाइडल साइनस इत्यादि है। उन्होंने कहा कि इस समस्या से काफी संख्या में लोग ग्रसित हैं। यह बहुत ही सामान्य बीमारी है यह महिलाओं में भी होती है। लगभग अपने जीवन मे 50 प्रतिशत लोग इस बीमारी से ग्रसित है। लेकिन अभी भी एक्सपर्ट डाक्टरों के पास इसका इलाज नही हैं। इसलिए इस बीमारी के प्रति डॉक्टरों और लोगों को जागरूक करने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया।

लेजर विधि से सर्जरी के फायदे

डॉ कौशिक ने इस विधि से इलाज के फायदें बताते हुए कहा कि इस लेजर विधि द्वारा ऑपरेशन का लाभ है कि इसमें छोटा आपरेशन होता है जिससे जल्दी आराम मिलता है। मरीज को जल्द से अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है, मरीज सामान्य जीवन शैली 3-4 दिनों में शुरू कर देता है, इसमें कोई चीरा व निशान नही होता, बेहद कम रक्तसाव, बेहद कम दर्द, रोग के दुबारा होने का खतरा न के बराबर, उच्च सफलता दर, सटीक उपचार होता है। डा कोशिक ने यह भी बताया कि ऑपरशन यूरोपियन देश पालैंड में बनी हुई लेजोट्रॉनिक्स मशीन द्वारा किया जा रहा है। यह ऑपरेशन बहुत ही न्यूनतम दरों में मरीजो को उच्चतम गुणवत्ता का वो उपचार वाराणसी में उपलक्षा हो सकेगा जिसके लिए पहला मरीजों को दिल्ली मुबई जैसे बड़े शहरों में जाकर बहुत ही अधिक शुल्क व परेशानियों में इलाज करवाना पड़ता था।

इस पहले शुक्रवार को पॉपुलर हॉस्पिटल में ही कार्यशाला का आयोजन किया गया। बीएचयू सर्जरी विभाग के प्रमुख प्रो. पुनीत ने  इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किये। इस आयोजन में प्रो. डॉ. ए.के. खन्ना, मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। सभा का संचालन सर्जरी एसोसिएशन के सचिव डॉ. ए.के. कौशिक एवं अध्यक्ष डॉ. सुधीर सिंह ने किया। सर्जरी एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष डॉ. मृणाल सिंह ने धन्यवाद ज्ञापित किया।