किसान गर्जना रैली में शामिल होंगे 2 लाख किसान, इन चार प्रमुख मुद्दों को लेकर रामलीला मैदान में भरेंगे हुंकार...

किसान गर्जना रैली का आयोजन भारतीय किसान संघ 19 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में करने जा रहा है. जिसके लिए 10 दिसंबर तक काशी प्रांत में ग्राम जनजागरण अभियान चलाएगा.

किसान गर्जना रैली में शामिल होंगे 2 लाख किसान, इन चार प्रमुख मुद्दों को लेकर रामलीला मैदान में भरेंगे हुंकार...

वाराणसी, भदैनी मिरर। भारतीय किसान संघ 19 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में किसान गर्जना रैली आयोजित करने जा रही है. जिसमें देश से दो लाख किसानों के पहुँचने की संभावना है. उक्त जानकारी गुरुवार को विश्व संवाद केंद्र लंका कार्यालय पर आयोजित पत्रकारवार्ता के दौरान संगठन के अखिल भारतीय संगठन मंत्री दिनेश दतात्रेय कुलकर्णी ने दी. उन्होंने कहा की इस रैली में किसानों के अहम मुद्दों पर आवाज बुलंद की जायेगी. 

लाभ के आधार पर मिले लाभकारी मूल्य

दिनेश दतात्रेय कुलकर्णी ने बताया की हमारी मुख्य मांग है की किसान को लागत मूल्य के आधार पर लाभकारी मूल्य की सुनिश्चिता होनी चाहिए. उन्होंने कहा की कृषि उत्पादों के मूल्य नीति लाभकारी नही है. यानि M.S.P. (मिनिमम स्पोर्ट प्राईज ) जो कि तर्क संगत नहीं है M.S.P. में कार्यशील पूंजी, उस पर ब्याज, कृषि यंत्रों का किराया, एक कुशल श्रेणी प्रबंधक किसान का वेतन, सम्मलित नहीं है, और न ही M.S.P. घोषित फसलो को खरीदा जाता है. केवल धान, गेहूं की फसलों के कुल उत्पादन का 10-11 प्रतिशत खरीदा जाता है. इस प्रकार की नितियों से देश का किसान आत्मनिर्भर, समृद्धशाली कैसे बनेगा? 
उन्होंने कहा की भारतीय किसान संघ का प्रारम्भ से मुख्य मुद्दा किसान को लागत के आधार पर लाभकारी मूल्य दिलाना रहा है.

सरकार से है चार मांगें

दिनेश दतात्रेय कुलकर्णी ने कहा की हमारी चार मांगें है. उन्होंने कहा की भारतीय किसान संघ काशी प्रान्त सभी जनपद में 10 दिसम्बर तक ग्राम जनजागरण का अभियान चलाएगा. काशी प्रान्त से हजारो की संख्या में कार्यकता भाग लेंगे. 

  • किसानों को लागत के आधार पर लाभकारी मूल्य दिलाना. 
  • कृषि आदानो को GST के दायरे से बाहर रखा जाये.
  • किसान सम्मान निधि बढ़ाई जाये व प्रत्येक किसान को मिलने की सुनिश्चिति की जाये.
  • केन्द्र सरकार सभी प्रकार के GM, BT व GM सरसो के अनुमति को तत्काल वापस ले. फसल अवशेष जलाने पर किसान पर हो रही कार्यवाही व आर्थिक दण्ड समाप्त करें.