आशनाई के कारण दोस्त ने ही उतारा था राजेश को मौत के घाट, पुलिस ने किया राजफाश

                             

घटना के बाद फेक दिया था कपड़ा, गाड़ी तमंचा भी बरामद…

  Ford Hospital                           

वाराणसी, भदैनी मिरर। जनपद के भेलूपुर थाना क्षेत्र के खोजवा दसमी में हुई हत्या का अनावरण पुलिस ने 36 घंटों के भीतर कर दिया। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच में जुटी पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। घटना के खुलासे में इंस्पेक्टर भेलूपुर अमित मिश्रा, चौकी इंचार्ज दुर्गाकुंड प्रकाश सिंह, चौकी इंचार्ज अस्सी दीपक कुमार रानावत के साथ थाने की क्राइम टीम और खोजवां चौकी इंचार्ज रवि यादव ने कड़ी मेहनत की है। एसपी सिटी विकास चन्द्र त्रिपाठी ने हत्या का खुलासा सोमवार को क्षेत्राधिकारी भेलूपुर कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान की। एसपी सिटी ने हत्या में शामिल दो लोगों को मीडिया के सामने पेश किया।

एसपी सिटी विकास चन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि संविदा पर कार्य कर रहे विद्युतकर्मी राजेश कुमार विश्वकर्मा का एक महिला से प्रेम प्रसंग था। इस बात की जानकारी जब उसके देवर को हुई तो उसने विद्युतकर्मी राजेश कुमार विश्वकर्मा को कई बार मना किया, लेकिन राजेश कुमार विश्वकर्मा नहीं माना। यह बात उसके देवर कर्माजीतपुर सुंदरपुर निवासी राजेश पटेल को नागवार गुजरी और उसने विद्युतकर्मी को रास्ते से हटाने की योजना बना ली।

दोस्ती बदल गई दुश्मनी में

एसपी सिटी विकास चन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि राजेश ने पुलिस पुछताछ में बताया कि राजेश पटेल और राजेश कुमार विश्वकर्मा एक अच्छे दोस्त हुआ करते थे। राजेश कुमार विश्वकर्मा का राजेश पटेल के घर आना-जाना था। इसी बीच राजेश कुमार विश्वकर्मा का प्रेम-प्रसंग भाभी से हो गया। जिसके बाद देवर राजेश पटेल ने कई बार मना किया लेकिन वह नहीं माना। जिसके बाद राजेश पटेल अपने साथी रामबाबू के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया।

योजना बनाकर की हत्या

राजेश कुमार पटेल ने पुलिस को बताया कि धीरे-धीरे जब दोस्ती दुश्मनी में बदल गई और विद्युतकर्मी राजेश कुमार विश्वकर्मा भाभी से मिलना जुलना नहीं छोड़ा तो उसने रामबाबू के साथ मिलकर योजना बनाई और उसने कमच्छा उपकेंद्र जाने से पहले ही रास्ते पर पहुंचकर इंतजार करने लगा। ऐसे ही राजेश कुमार विश्वकर्मा आया वह सड़क पर निकलकर रॉड से हमला करने के बाद गोली दाग दी। पुलिस ने राजेश कुमार पटेल के पास है एक पिस्टल 32 बोर और एक जिंदा कारतूस भी बरामद किया है।

रास्ते में कपड़े फेक, पहन लिया जैकेट

राजेश कुमार पटेल ने रामबाबू को घटनास्थल से पहले ही गली में गाड़ी से रोक दिया। घटना को अंजाम देने के बाद राजेश पैदल ही गली से भागते हुए रामबाबू के पास पहुंचा और घटना के बाद पहने कपड़े को फेंक कर जैकेट पहन ली। पुलिस ने घटना में प्रयोग किए हैं बाइक तमंचा भी बरामद कर लिया है।

एसएसपी ने गिरफ्तारी करने वाली टीम को 25 हजार रुपये का ईनाम घोषित किया है।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *