अन्नपूर्णेश्वरी का खजाना पाकर निहाल हुए भक्त, अन्नकूट तक होगा स्वर्णमयी प्रतिमा के दर्शन…

                             

  Ford Hospital                           

वाराणसी/भदैनी मिरर। दीपावली से पूर्व कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को पड़ने वाले धनतेरस के अवसर पर काशी पुराधीश्वरी मां अन्नपूर्णा से धन-धान्य पाकर भक्तगण निहाल हो उठे। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी माँ के दर्शन और प्रसदरूपी खजाने के लिए बुधवार की रात से ही भक्तों की लंबी कतारें लग गई थीं। महंत रामेश्वरपुरी, उपमहंथ शंकर पुरी ने मां की स्वंर्णमयी प्रतिमा की आरती उतारी। इसके बाद मंदिर के आचार्य और काशी हिंदू विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर प्रो. राम नारायण द्विवेदी के आचार्यत्व में देवी का षोडशोपचार पूजन किया गया। इधर कतारों में लगे भक्त माता के उद्धघोष लगा रहे थे और उनका नाम जप रहे थे। आरती और पूजन के बाद माता के स्वंर्णमयी प्रतिमा के दर्शन के लिए कपाट खोल दिया गया। कपाट खुलते ही पूरा मंदिर परिसर माता के जयकारों से गुंजायमान हो उठा।

वहीं कोरोना काल को देखते हुए भक्तों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दरबार में प्रवेश दिया जा रहा था। साथ ही हैंड सेनेटाइजेशन और थर्मल स्कैनिंग के बाद ही 5-5 भक्तों को माता के दरबार में प्रवेश दिया जा रहा था। मां के दर्शन के लिस आये भक्तों को गेट नंबर एक ढुंढिराज गणेश से मुख्यद्वार होते हुए दर्शन के लिए भेजा जा रहा था। राम मंदिर के रास्ते कालिका गली से निकास दिया जा रहा था। यह सिलसिला चलता रहा।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *