रामलीला : लक्ष्मण को राम ने दिया उपदेश

                             

  Ford Hospital                           

वाराणसी/भदैनी मिरर। अखाड़ा गोस्वामी तुलसीदास समिति द्वारा आयोजित तुलसीघाट की प्रसिद्ध रामलीला में मंगलवार को सुतीक्ष्ण मिलन, अगस्त्य समागम और पंचवटी निवासी का मंचन हुआ। राम वन में अत्रि मुनि के आश्रम में पहुंचे तो मुनि ने उनका आतिथ्य सत्कार करने के बाद उनकी स्तुति की। वहीं अनुसुइया ने सीता को स्त्री धर्म सिखाया। इधर वन में राम मतंग ऋषि से मिले। राक्षण विराध ने क्रोध से गर्जना करते हुए सर्प की तरह झपटकर सीता को चुरा लिया तो राम ने सात बाणों से मारकर उसका वध करके सीता को बचा लिया।

रास्ते में शरभंग, सुतीक्ष्ण तथा अगस्त आदि ऋषि मुनियों से मिलते हुए राम पंचवटी पहुंचे। वहां पर्णकुटी बनाकर निवास किया। लक्ष्मण ने उनसे कुछ जानने की इच्छा से ज्ञान, विराग, माया, भक्ति, ईश्वर और जीव के भेद को समझाने और शोक-मोह व भ्रम दूर करने को कहा तो उन्होंने उपदेश सुनाया। जिसे सुनकर लक्ष्मण राम के चरण में गिर पड़े। यहीं पर भगवान की आरती प्रो. विश्वम्भरनाथ मिश्र ने आरती उतारी और लीला को विश्राम दिया गया।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *