लगातार दूसरे दिन भी बनारस में गूंजी बदमाशों की गोली, बोले एडीजी तफ्तीश जारी, परिजनों ने दिया धरना

                             

  Ford Hospital                           

वाराणसी, भदैनी मिरर। जनपद में बदमाशों का इकबाल बुलंद है। पुलिस पुलिसिंग छोड़कर चालान काटने में मस्त है तो बदमाश गोली चलाने में व्यस्त हैं। लगातार दूसरे दिन भी बदमाशों ने फायर झोंका और 2 लोगों को मौत की नींद सुला दिया। लगातार शहर में बढ़ रही हत्याओं से अब जनता पुलिस के प्रति आक्रोशित होती जा रही है। बदमाशों को न चौराहों पर लगे सीसीटीवी कैमरे से डर है और ना ही पुलिस का। गुरुवार को ककरमत्ता में दवा लेने के बाद दवा दुकानदार पर बदमाशों ने फायर झोंक दिया था। अब शुक्रवार को हुए डबल मर्डर से शहर थर्रा गया है।

घटना की जानकारी पाते ही मौके पर एडीजी वाराणसी जोन वृजभूषण के साथ ही एसएसपी अमित पाठक और एसपी सिटी विकास चन्द्र त्रिपाठी भी पहुंचे। एडीजी ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला रंजिश का लग रहा है। घटना के संदर्भ में एडीजी बृजभूषण ने बताया कि जैतपुरा थाना क्षेत्र के चौकाघाट स्थित काली मंदिर के पास दो व्यक्ति बाइक से जा रहे थे। एक का नाम अभिषेक सिंह उर्फ़ प्रिंस जो पीछे बैठा था और का नाम दीपक गोंड है जी ड्राइव कर रहा था। तभी पीछे से बाइक सवार दो बदमाश आये और गोली चलाई जिसमें अभिषेक को गोली लगने पर जब वह गिर पड़ा तो बदमाशों ने फिर उनपर गोली चलाई। इसी दौरान गोली ट्रॉली चालाक बाल्मीकि को लगी और उसकी मौत हो गई। साथ ही गोली लगने पर अभिषेक की भी मौत हो गई। ड्राइव करने वाला दीपक घायल है। एडीजी ने बताया कि मृतक अभिषेक के खिलाफ भी कई मुक़दमे दर्ज हैं वह हत्या के आरोप में जेल भी जा चूका है। इसके साथ ही कई मुकदमें दर्ज हैं। अभिषेक की कई व्यक्तिगत रंजिशें भी चल रही थीं।

अभिषेक के मोबाइल कॉल्स और व्हाट्सअप चैट्स की जाँच की गई है। जिसमें नार्कोटिक्स और आर्म डीलिंग की बातें भी सामने आई हैं। उम्मीद है कि साक्ष्यों के आधार पर जल्द ही मामले का खुलासा किया जायेगा। एडीजी ने बताया की जाँच जारी है बदमाशों की पहचान भी जल्द ही कर ली जाएगी। एडीजी ने आशंका जताई है कि जाँच में जो भी साक्ष्य मिले हैं उनके आधार पर घटना का कारण भी अभिषेक की आपसी रंजिश है। कुछ सालों पहले अभिषेक अपने ही रिश्तेदार की हत्या के आरोप में जेल गया था घटना का सम्बन्ध इससे भी हो सकता है। जाँच के बाद ही सही कारण स्पष्ट हो पायेगा। वहीं जानकारी मिलते ही मृतक ट्राली चालक बाल्मीकि गौतम के परिवार मौके पर पहुंच गए। धरने पर बैठकर हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। वहीं परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *