तिब्बत की आजादी के लिए काशी में हवन-पूजन, दलाई लामा का साथ देने का लिया संकल्प

                             

  Ford Hospital                           

वाराणसी/भदैनी मिरर । चीन के विस्तारवाद और इस्लामी जेहादियों के आतंक से पूरी दुनियां को खतरा है। यही खतरा दुनियां को तृतीय विश्वयुद्ध में ढकेल सकता है। जिसे बचाने के लिये पातालपुरी सनातन धर्म रक्षा परिषद की ओर से पातालपुरी मठ नरहरपुरा में 11 दिवसीय हनुमान चालीसा का 108 बार प्रतिदिन हवनात्मक यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। यज्ञ में प्रतिदिन सनातन धर्म के प्रसिद्ध सिद्धपीठ, मंदिर, प्राचीनतम विश्वविद्यालय के साथ गुलाम देशों को मुक्त कराने के लिये संकल्प लिया जाता है। वहीं यज्ञ के 11वें दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इन्द्रेश कुमार ने नई दिल्ली से तिब्बत की आजादी के लिये हनुमान चालीसा हवनात्मक यज्ञ के माध्यम से हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिये ऑनलाईन संकल्प लिया। इसके साथ ही उन्होंने तिब्बत के धर्मगुरू दलाई लामा का साथ देने का भी संकल्प लिया गया।

इस अवसर पर पातालपुरी मठ के पीठाधीश्वर महंत बालक दास जी महाराज के नेतृत्व में पांच वैदिक ब्राह्मणों ने विधि विधान से इन्द्रेश कुमार को संकल्प दिलाया और उनके शिष्य एवं मुख्य यजमान अयोध्या श्रीराम पीठ के केन्द्रीय व्यवस्था प्रमुख डा० राजीव श्रीवास्तव को उनके प्रतिनिधि के रूप में बैठाकर प्रत्येक चौपाई पर यज्ञ में आहूति डलवायी।अन्य यजमान के रूप में अनाज बैंक की प्रबन्ध निदेशक अर्चना, भारतवंशी एवं सुभाष मंदिर की पुजारी खुशी रमन भारतवंशी ने आहूति डालकर भारत की महिलाओं का प्रतिनिधित्व किया।

इस दौरान इन्द्रेश कुमार ने कहा कि तिब्बत की आजादी से विश्वशांति का रास्ता निकलेगा। चीन और इस्लामी जेहादी विश्वयुद्ध के कारण बनते जा रहे हैं। भारत विश्वशांति चाहता है, इसलिये बार-बार दुनियां के सामने उन कारणों को उठाता है जिससे अशांति फैल सकती है। काशी में होने वाले विश्वशांति यज्ञ से शांति का रास्ता निकलेगा और भारत विश्वगुरू बनकर दुनियां के देशों को शांति के रास्ते पर ले जायेगा। चीन ने तिब्बत को गुलाम बनाकर रखा है। अब समय आ गया है कि तिब्बत को चीन के आतंक और गुलामी से आजादी मिल जानी चाहिये। यज्ञ में प्रमुख रूप से नजमा परवीन, सनी सिंह, भईया लाल जायसवाल, इली भारतवंशी, उजाला भारतवंशी, सरोज देवी, रमता श्रीवास्तव आदि लोगों ने अनुष्ठान में आहूति डाली।

यह भी बताया गया कि हनुमान चालीसा हवनात्मक यज्ञ के 11 दिन पूर्ण हो जाने पर 25 अगस्त को महायज्ञ का आयोजन किया गया है। इस महायज्ञ में सभी तरह के भेदभाव समाप्त करके लोग भाग लेंगे। इसमें सभी धर्मों हिन्दू-मुस्लिम, ईसाई समुदाय के लोग विश्वशांति के लिये आहूति डालेंगे। लैंगिक भेदभाव को खत्म करते हुए सबके राम और सबमें राम का नारा देते हुए महिला पुरूष बच्चे और किन्नर समाज के लोगों को भी यज्ञ में आमंत्रित किया गया है। यज्ञ सुबह 9 बजे से शुरू होगा। सभी तरह के जातिगत, धर्मगत, लैंगिक और रंगभेद को मिटाकर पातालपुरी मठ इस महायज्ञ के जरिये एकता, भाईचारा और शांति का व्यवहारिक संदेश देकर इतिहास रचेगा। इस महायज्ञ में यजमान मनोज कुमार शाह, किन्नर गुरू निशा, दक्षिता भारतवंशी रहेंगे। विश्वशांति यज्ञ में भाग लेने के लिये हनुमान चालीसा फेम नाजनीन अंसारी भी पातालपुरी मठ पहुचेंगी।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *