मुख्तार गैंग के अर्थ पर चोट, मछली माफिया सलीम के बाद 4 सदस्य और गिरफ्तार

                             

  Ford Hospital                           

वाराणसी/भदैनी मिरर। माफिया मुख्तार अंसारी के गिरोह के सक्रिय गुर्गे मोहम्मद सलीम की गिरफ्तारी के बाद वाराणसी पुलिस मुख्तार के गिरोह पर लगातार नकेल कस रही है। इसी क्रम में मंगलवार को करवाई करते हुए लंका, शिवपुर पुलिस व जिला प्रशासन (खाद्य सुरक्षा विभाग व मत्स्य विभाग) द्वारा मुख्तार अंसारी के करीबी व सहयोगी प्रतिबन्धित मछली माफिया के 4 सदस्य रामबालक साहनी, गुरुचरण सिंह, संतोष यादव व वीकोतर उर्फ वीरु को किया गया गिरफ्तार किया गया है। इनके कब्जे 20 कुन्टल प्रतिबन्धित मछलियां भी बरामद की गयी है।

इस संबंध में पुलिस ने बताया कि को पूर्व से ही सूचना मिल रही थी कि माफिया सरगना मुख्तार अंसारी के सहयोगी व गुर्गे अवैध रुप से प्रतिबन्धित मछली व अण्डे की बिक्री धड़ल्ले से कर रहे है तथा शहर के मछली मण्डियो से धमकी देकर अवैध वसूली भी की जा रही है। जिसके बाद पुलिस व प्रशासन ने टीम गठित कर जनपद के विभिन्न थाना क्षेत्रों में छापेमारी की। जिसमें थाना लंका के रमना में प्रतिबन्धित मांगुर 15 कुन्टल अनुमानित कीमत तीन लाख रूपये की बरामदगी के साथ अभियुक्त रामबालक साहनी, गुरुचरण सिंह व संतोष यादव गिरफ्तार किया गया है। वहीं थाना शिवपुर के उन्दी में 5 कुन्टल प्रतिबन्धित मछलियां अनुमानित कीमत एक लाख रूपये के साथ अभियुक्त वीकोतर उर्फ वीरु को गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ जुड़ा एक अन्य अभियुक्त मकसूद आलम मौके से फरार हो गया। जिसके विरूद्ध आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है।

पुलिस ने बताया कि अभियुक्त रामबालक साहनी, गुरुचरण सिंह, संतोष यादव व वीकोतर उर्फ वीरू मुख्तार अंसारी गैंग के आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने के लिए प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से सहयोगी रहे है। प्रतिबंधित ‘मांगुर’ प्रजाति की मछलियों की सप्लाई भी बनारस सहित आस-पास के जिलों में अपने अन्य सहयोगियों के माध्यम से करते है। यह भी गोपनीय रूप से संज्ञान में आया है कि मछली बाजार पर भी ये अपनी धौंस दिखाकर मछली के व्यापार पर एकाधिकार रखना चाहते है। पूछताछ में पता चला कि यह व्यापार के माध्यम से माफिया मुख्तार अंसारी के गुर्गों को आर्थिक मदद भी मुहैया कराते है।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *