लावारिस शवों के लिए जानी जाती है काशी मोक्षदायिनी, दूसरी शाखा का हुआ उद्घाटन

                             

बोले केशव जालान ईश्वर के कार्य से कम नहीं समाजिक कार्य…

  Ford Hospital                           

वाराणसी/भदैनी मिरर। काशी मोक्षदायिनी सेवा समिति के वाराणसी के दूसरे कार्यालय का शुक्रवार को हरिश्चंद्र घाट पर उद्घाटन किया गया। कार्यालय का उद्धघाटन जालान्स सिन्थेटिक्स के अधिष्ठाता व समिति के संरक्षक केशव जालान ने फीता काटकर किया। काशी मोक्षदायिनी सेवा समिति की स्थापना वर्ष 2014 में लावारिस, असहाय व निर्धनों के निःशुल्क शव दाह के उद्देश्य से की गई। साथ ही सामाजिक सरोकार से जुड़े विभिन्न कार्यों को लेकर समिति निरन्तर प्रयासरत है। यही नहीं समिति द्वारा जिन शवों का अंतिम संस्कार किया जाता है उन सभी का हर वर्ष महालया पर पूरे विधि-विधान से पिंडदान भी किया जाता है। साथ ही अन्य सामाजिक सरोकार के कार्य भी किये जाते हैं।

वहीं कार्यालय के उद्धघाटन के बाद केशव जालान ने समिति के सदस्यों को शुभकामनाएं दी । कहा कि समाजिक सरोकार के कार्य ईश्वर के कार्य होते हैं। जब भी मौका मिले बढ़चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए। यह समिति केवल लावारिस शवों का अंतिम संस्कार ही नहीं कराती बल्कि उन शवों को तिरस्कृत होने से भी बचाती है। जीवन-मृत्यु हर व्यक्ति का एक समान होता है चाहे वह अरबपति हो या फिर कोई गरीब। कर्मों के आधार पर ही हर व्यक्ति सामजिक पहचान बनाता है। इसलिए जरुरी है हर व्यक्ति अपने जीवन में समाजिक कार्यों से जुड़ा रहे इसी सोच के साथ काशी मोक्षदायिनी कार्य कर रही है। कार्यक्रम में समिति के निधि देव अग्रवाल, राष्ट्रीय अध्यक्ष पवन कुमार चौधरी उर्फ डॉक्टर, महामंत्री जय कुमार जैसल, उपाध्यक्ष गोपाल प्रसाद, वीरेश मिश्रा समेत अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

             

         

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *